सरकार- ये बंद कर दो, वो बंद कर दो; गरीब, मज़दूर- लेकिन हज़ूर खाएंगे क्या?