संपादकीय: भाजपा ने जानबूझकर दिल्ली को जलने दिया