क्या जनरल रावत के राजनीतिक बयानों को बस प्रशंसा गीत मानना चाहिए?