"भ्रष्टाचार... उतना करो किसी को पता न चले"