साम्प्रदायिक फासीवाद की चुनौती – नयी ज़मीन तोड़ते हुए