बीजेपी शासन में आंकड़े दिल्ली पहुंचते हैं और ग़ायब हो जाते हैं!