सैन्यवाद, परमाणुकरण और राजकीय दमन के विरोध में उठी आवाजें