क्या बच्चों को जबर्दस्ती भाषण सुनाने के लिए स्कूल बुलाना जरूरी है?